ज्वलंत मुद्दे

6/recent/ticker-posts

ADD1

महिला सशक्तिकरण की मिसाल बनेगी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता:

 आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका के शैक्षणिक स्तर में उन्नयन कार्यक्रम का शुभारंभ

👉  प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल एवं शिक्षा कार्यक्रम के तहत शुरू हुआ कार्यक्रम
👉  समाज कल्याण विभाग के अपर मुख्य सचिव अतुल प्रसाद व बीबीओएसई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने   किया शुभारंभ

पटना,12 अप्रैल। अब प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल एवं शिक्षा कार्यक्रम (ईसीसीई) के अंतर्गत आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका के शैक्षणिक स्तर में सुधार किए जाएंगे. इसको लेकर बिहार मुक्त विद्यालयी शिक्षण एवं परीक्षा बोर्ड (बीबीओएसई) ने आंगनबाड़ी सेविका एवं सहायिका के लिए ऑनलाइन कोर्सेज डिजाईन किया है। अब 8 वीं पास सहायिका 10 वीं कर सकेगी। वहीँ 10वीं पास सेविका इंटर कर सकेंगी। साथ ही जो सेविका इंटर पास कर चुकी है, उनके लिए ईसीसीई पर एक साल का डिप्लोमा कोर्स करने का प्रावधान किया जा रहा है। वहीं ग्रेजुएट पास सेविका ईसीसीई पर 6 माह का सर्टिफिकेट कोर्स कराया जाएगा। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत इसे अनिवार्य भी किया गया है। सरकार सेविकाओं को डिप्लोमा एवं सर्टिफिकेट कोर्स करने के लिए पूरा खर्च वहन करेगी.  इसको लेकर सोमवार को मुख्य अतिथि  समाज कल्याण विभाग के अपर मुख्य सचिव अतुल प्रसाद एवं विशिष्ट अतिथि बीबीओएसई के कार्यकारी अधिकारी दिनेश सिंह बिस्ट ने सेविका/ सहायिका के शैक्षणिक स्तर में उन्नयन पर आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।

महिला सशक्तिकरण की मिसाल बनेगी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता:

अपर मुख्य सचिव अतुल प्रसाद ने कहा कि  राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के आलोक में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के शैक्षणिक स्तर के उन्नयन हेतु प्रावधान किया गया है I इसके लिए समाज कल्याण विभाग एवं  बिहार मुक्त विद्यालयी शिक्षण एवं परीक्षा बोर्ड (बीबीओएसई), के संयुक्त प्रयास से आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की शैक्षणिक योग्यता के सुदृढ़ीकरण हेतु ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त करने के लिए कार्यक्रम की शुरुआत की जा रही है, जिससे आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के शैक्षणिक उत्थान से उनके कौशल में विकास होगा I ऐसी सुशिक्षित आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं समाज के लिए सक्षम संसाधन के रूप में महिला सशक्तिकरण की मिसाल बनेगी I

शैक्षणिक उन्नयन के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगी आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका:

बीबीओएसई के कार्यकारी अधिकारी दिनेश सिंह बिस्ट ने कहा कि इस पाठ्यक्रम में निबंधन / नामांकन हेतु संबंधित बाल विकास परियोजना पदाधिकारी  कार्यालय से ऑनलाइन फॉर्म भरा जायेगा I राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 के आलोक में सभी आंगनवाड़ी सेविकाओं को प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल एवं शिक्षा विषय पर सर्टिफिकेट /डिप्लोमा कोर्स अनिवार्य हैI बीबीओएसई से संबंधित कोर्स करने के लिए विशेष प्रावधान किया जा रहा है ताकि राज्य में कार्यरत सेविकाएं जो इंटर अथवा ग्रेजुएट है वे ये कोर्स कर सकें। वर्तमान में आंगनवाड़ी सहायिकाओं के चयन हेतु न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 8 वीं पास तथा सेविकाओं के लिए 10वीं /मैट्रिक पास अथवा समकक्ष है। बीबीओएसई के माध्यम से राज्य में कार्यरत न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता वाली सहायिकाओं को 10वीं तथा सेविकाओं को 12 वीं पास करने के लिए प्रेरित कर उनकी शैक्षणिक योग्यता को सुदृढ़ करने की योजना है। इच्छुक सहायिकाओं को 10 वीं एवं सेविकाओं को 12वीं के कोर्स करने हेतु बीबीओएसई के समन्वय ऑनलाइन कोर्स करने का प्रावधान किया गया है I

इस दौरान आई सी डी एस के निदेशक आलोक कुमार, समाज कल्याण निदेशालय के निदेशक राजकुमार, बीबीओएसई के पदाधिकारी, आईसीडीएस के जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, राज्य स्तरिये चयनित मास्टर ट्रेनर एवं राज्य स्तरीय आईसीडीएस कंसल्टेंट्स भी ऑनलाइन जुड़े थे. कार्यक्रम का संचालन आईसीडीएस की सहायक निदेशक श्वेता सहाय ने किया।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ